Ads can be a annoying, but they are our only way to maintain the server. we hope our service can be worth it.
loading...

श्रीदेवी (1963-2018): बॉलीवुड नहीं इस मलयालम फिल्म से मिली पहचान और फिर छा गईं ‘रूप की रानी’

Posted 2018/02/251220

जानीमानी अदाकारा श्रीदेवी का 54 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वह एक शादी में शामिल होने दुबई गई थी. श्रीदेवी ने 1970 और ’90 के दशक में बीच कई बॉलीवुड की हिट फिल्मों में अभिनय किया लेकिन इससे पहले उन्होंने मलियाली फिल्मों में भी अपनी खास पहचान बनाई.

श्रीदेवी ने 1969 में पी. सुब्रमण्यम द्वारा निर्देशित द्विभाषी फिल्म ‘कुमारा संभावम’ से अपने करियर की शुरुआत की. लेकिन दो साल बाद आयी उनकी फिल्म ‘पूमबत्ता’ के साथ उन्होंने अपने आगमन का पूरी तरह ऐलान कर दिया. बी. के. पोट्टेक्कड द्वारा निर्देशित में श्रीदेवी ने एक बच्चे की मुख्य भूमिका निभाई, जो मां की मौत के बाद अपनी सहेली के घर में रहती है.

 इस फिल्म में बच्ची को अत्याचार का सामना करना पड़ता है. इस भूमिका ने श्रीदेवी को स्क्रीन पर अपने भावात्मक अभिनय के लिए यादगार बना दिया. इस फिल्म में किये गए उनके अभिनय ने उन्हें उनके करियर के कई पुरस्कारों में से पहला पुरस्कार दिलाया. फिल्म में उन्हें सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार अवार्ड मिला.

श्रीदेवी पति बोनी कपूर और छोटी बेटी खुशी कपूर के साथ मोहित मारवाह की वेडिंग अटेंड करने गई थीं, जो कि कपूर परिवार के रिश्तेदार हैं. वहीं पर अचानक हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई. बेहद चुलबुली, खूबसूरत और ग्लैमरस श्रीदेवी को फीमेल सुपरस्टार कहा जाता था. बॉलीवुड में श्रीदेवी ने अपने अभिनय और नृत्य के दम पर एक अलग पहचान बनाई थी. उन्होंने सदमा, चांदनी, हिम्मतवाला, तोहफा, नगीना, हीर रांझा, रूप की रानी चोरों का राजा, लाडला, जुदाई जैसी कई यादगार फिल्मों में बेहतरीन अभिनय किया.

बाल कलाकार के रूप में श्रीदेवी ने कई और उल्लेखनीय रोल निभाए. जिसमें आईवी ससी की अभिनन्दनम भी शामिल है. 1976 में एन. शंकरन नायर द्वारा निर्देशित तुलवरशम में भी श्रीदेवी ने एक प्रमुख भूमिका निभाई. साथ ही श्रीदेवी ने एम मस्तान की तमिल फिल्म कुट्टावुम शिक्ष्याम में कमल हसन के साथ भूमिका निभाई.

एक साल बाद मलयालम में उनकी एकऔर उल्लेखनीय फिल्मों में से एक सत्यवान सावित्री आयी. मलयालम फिल्म उद्योग में उन्होंने कुल एक दशक से अधिक समय में 24 फिल्मों में अभिनय किया. उसके बाद श्रीदेवी बॉलीवुड में आ गयी और मलयालम सिनेमा से गायब हो गई.

हालांकि लम्बे समय बाअद वह फिर मलयालम फिल्मों में वापस आ गयी. देवारगम में में उन्होंने अरविंद स्वामी के साथ अभिनय किया. यद्यपि उसने अपेक्षाकृत उन्होंने कम मलयाली फिल्मों में अभिनय किया लेकिन मलयालम फिल्मों में उनका योगदान न भूलने वाला है.

Source By :- http://hindi.catchnews.com

loading...
loading...
loading...